गंगा में डुबे दोनों नवयुवकों के शव हुए बरामद।

गंगा में डुबे दोनों नवयुवकों के शव हुए बरामद।

मृतक शंकुल

गंगा में डुबे दोनों नवयुवकों के शव हुए बरामद।

गंगा नदी में डुबने से दो नवयुवकों की मृत्यु क्षेत्र में चर्चा का विषय बना रहा। नवयुवकों के साथ घटनाओं के अलग-अलग दृश्य अलग-अलग स्थानों पर हुई । घटना उत्तर प्रदेश के जिला बुलंदशहर तहसील सयाना थाना अहार के गंगा खादर क्षेत्र में घटित हुई हैं।

  1. पहली घटना

पहली घटना जहांगीराबाद निवासी मोन्टी पुत्र त्रिलोक चंद उम्र लगभग 25 वर्ष बुधवार सुबह घर से गंगा स्नान करने के लिए अहार क्षेत्र में स्थापित अवन्तिका देवी मंदिर गंगा घाट पर पहुंचे। स्नान के दौरान ही मृतक का सन्तुलन बिगड़ने से ही गहरे पानी में चला गया और अपने आपको नहीं संम्भाल पाया। जिससे मोन्टी की मौत गहरे पानी में डूबने से हो गई। परिजनों ने पुलिस और गौताखोरो की मदद से मोन्टी के शव को अगले दिन बरामद किया।

 

  1. दूसरी घटना

यह दूसरी घटना सिद्ध बाबा मन्दिर के सामने गंगा नदी में शंकुल पुत्र महकार उम्र के लगभग १७ वर्ष निवासी मद्देय फत्तेपुर गुर्जर के साथ घटित हुई। घटना बुधवार शाम चार बजे से पांच बजे के मध्य हुई थी। मृतक अपने पशुओं को टापू से चरा कर घर के लिए चल दिए रास्ते में गंगा नदी को पार करना होता है जिसे मृतक अपने पशु की पीठ पर बैठकर पर कर रहा था। अचानक शंकुल का सन्तुल बिगड़ने से शंकुल का अपने पशु का साथ छूट गया और शंकुल तेज गहरे पानी के बहाव में बह गया। शंकुल तैरना नहीं जानता था जिसके कारण शंकुल  के लिए अपनी जान गंवानी पड़ी।

स्थानीय गोताखोरों ने पुलिस के साथ मिलकर दोनों नवयुवकों के साथ शवों को चौबीस घंटे में कड़ी मशक्कत के बाद घटना स्थल से गंगा नदी के बहाव की अनुकुल दिशा से बरामद कर परिजनों को सौंप दिया।

गंगा में डुबे दोनों नवयुवकों के शव हुए बरामद।
मृतक शंकुल

 

Share and Enjoy !

Shares

anwar khan

अनवार खान [email protected] दैनिक दृश्य के सम्पादक हैं ये अपने अनुभव से देश दुनिया में हो रही सामाजिक व्यवस्था अव्यवस्था को अपने शब्दों में लिखकर वेब पोर्टल पर प्रकाशित करते हैं। केवल सच्ची खबरें, कहानी, किस्से, यात्राओं के विरतान्त, आंखों देखी घटनाओं को अपने शब्दों में, क्या हुआ, कहा हुआ,कब हुआ, कैसे हुआ, किसने किया आदि विन्दुओ पर अपने विचार, टीका टिप्पणी और संदर्भ में भी लेखन करते हैं।

Read Previous

पंचायत चुनावों में अपने आपको सामाजिक कार्यकर्ता कहने वाले लोग विलुप्त हो गये।

Read Next

मीडिया से लोगों का भरोसा क्यों उठ रहा है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
Shares