छतारी थाने क्षेत्र के गांव धारौऊ में घटी घटना का पुलिस ने किया खुलासा।

छतारी थाने क्षेत्र के गांव धारौऊ गांव में घटी घटना का पुलिस ने किया खुलासा।

विगत दिनों से सोसल मीडिया पर वायरल कथित टिप्पणियों पर बुलंदशहर पुलिस अधीक्षक सन्तोष कुमार सिंह ने आज विराम लगा दिया।

सोसल मीडिया पर ग़लत तरीके और बिना तथ्यों के सनसनी फैला रहे लोगों से भी अपील की है कि इस तरह से सनसनी ना फेलाया करें जो कि एक अपराध है।

छतारी क्षेत्र की घटना के सम्बन्ध में कहा है कि सोसल मीडिया पर कथित ट्विटर चलाने वाले लोगों के द्वारा थाना छतारी क्षेत्र की एक घटना को बहुत ही सनसनीखेज,गलत तरीके से और बिना तथ्यों के ट्वीट किया जा रहा है।

घटनाक्रम इस प्रकार है।

21 जनवरी 2022 की घटना है थाना छतारी क्षेत्र के धारौऊ गांव में सौरभ शर्मा का प्रेम प्रसंग थाना डिबाई क्षेत्र के गांव गालिमपुर की एक लड़की के साथ चल रहा था। लड़की का ननिहाल धारौऊ गांव में है यही से इन दोनों के बीच प्रेम सम्बन्ध बनें।

लड़की अपने ननिहाल में ना रहकर अपने मूल गांव गालिमपुर में रहती है दोनों गांवों के बीच की दूरी लगभग पन्द्रह-सौलह किलोमीटर है।

21 जनवरी 2022 को लड़का, लड़की और लड़के का एक साथी की मोटरसाइकिल पर बैठकर धौरौऊ गांव आई यहां से एक ट्यूबवेल पर गये यहां पर लड़के के द्वारा लड़की की गोली मारकर हत्या कर दी और अपनी गर्दन,हाथ की नसें ब्लेड से काटी।

घटना की जानकारी होने पर लड़के को इलाज के लिए अलीगढ़ भेजा गया।

मृतका के परिजनों द्वारा दी गई तहरीर पर बिना किसी छेड़छाड़ के अभियोग पंजीकृत कर लिया गया। पंचायतनामा पोस्टमार्टम के बाद परिजनों द्वारा कर्णवास गंगा घाट पर अन्तिम संस्कार किया गया।

मीडिया में कथित ट्विटर अकाउंट चलाने वाले लोगों द्वारा यह दिखाया जा रहा है कि पुलिस रात में जबरन अन्तिम संस्कार कराया।इस सम्बन्ध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मृतका के अन्तिम संस्कार के समय वहां कोई पुलिसकर्मी मौजूद नहीं था।

इस बात का कोई साक्ष्य या कोई वीडियो नहीं है और यदि होता तो लोग ट्विटर पर वीडियो भी ट्वीट करते।केवल सनसनी पैदा करने के लिए लोग ट्विटर का गलत तरीके से इस्तेमाल कर रहे हैं।

मृतका के परिजनों ने बाद में एक ओर तहरीर दी जिसमें कुछ अन्य लोगों को अभियुक्त बनाए जाने की बात थी। परिजनों के अनुरोध पर इस मामले की विवेचना थाना छतारी को हटा कर थाना जहांगीराबाद को सुपुर्द कर दिया है।

दूसरा लड़का निशांत 19 वर्ष जो लड़की के गांव गालिमपुर डिबाई से लड़की के साथ मोटरसाइकिल पर आया था मुख्य आरोपी के साथ गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

लड़की के अन्तिम संस्कार में पुलिस की कोई भूमिका नहीं है और ना ही वहां कोई पुलिसकर्मी मौजूद था। लोगों द्वारा गलत तरीके से सनसनी पैदा करने का कार्य किया गया है जो कि एक अपराध है। ऐसे लोगों से अपील है कि गलत तरीके से सनसनी ना फैलाएं।

https://twitter.com/bulandshahrpol/status/1489252932629393411?t=6qEDp5vWKPXQCJLcoi6bjQ&s=19

Share and Enjoy !

Shares

anwar khan

अनवार खान [email protected] दैनिक दृश्य के सम्पादक हैं ये अपने अनुभव से देश दुनिया में हो रही सामाजिक व्यवस्था अव्यवस्था को अपने शब्दों में लिखकर वेब पोर्टल पर प्रकाशित करते हैं। केवल सच्ची खबरें, कहानी, किस्से, यात्राओं के विरतान्त, आंखों देखी घटनाओं को अपने शब्दों में, क्या हुआ, कहा हुआ,कब हुआ, कैसे हुआ, किसने किया आदि विन्दुओ पर अपने विचार, टीका टिप्पणी और संदर्भ में भी लेखन करते हैं।

Read Previous

लोकतंत्र के पर्व को सफल बनाने के लिए जिला अधिकारी सी पी सिंह ने जिले की जनता से अपील।

Read Next

चुनाव का बहिष्कार कर रहे हैं माजरा माली की मड्डियां के निवासी।इस राह का शासन प्रशासन को भी है ज्ञान फिर भी नहीं लिया गया संज्ञान।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
Shares