वसीम जाफर के समर्थन में उतरे अनिल कुंबले ने कहा मैं आपके साथ हूं?

वसीम जाफर के समर्थन में उतरे अनिल कुंबले ने कहा मैं आपके साथ हूं?

भारत के पूर्व महान लेग स्पिनर अनिल कुंबले ने गुरुवार को टीम इंडिया के अपने पूर्व साथी वसीम जाफर का समर्थन किया है।

वसीम जाफर पर उत्तराखंड क्रिकेट संघ ने आरोप लगाया है कि राज्य की टीम के कोच के रूप में उन्होंने धर्म आधारित चयन करने का प्रयास किया है।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व महान लेग स्पिनर अनिल कुंबले ने गुरुवार को टीम इंडिया के अपने पूर्व साथी वसीम जाफर का समर्थन किया है । यह आरोप लगाा कि   उन्होंने धर्म आधारित चयन करने का प्रयास किया है।

राज्य संघ से विवाद के बाद उत्तराखंड के कोच का पद छोड़ने वाले जाफर ने बुधवार को क्रिकेट संघ के अधिकारियों के आरोपों को खारिज किया है ,और कहा है कि वह टीम में मुस्लिम खिलाड़ियों के पक्ष नहीं ले रहे थे। जाफर को अब पूर्व भारतीय कप्तान और कोच  कुम््बले    का समर्थन मिला है ।

जो अभी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की क्रिकेट समिति के प्रमुख हैं कुंबले ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा है। आपके साथ हूं वसीम आपने सही किया दुर्भाग्य साली खिलाड़ी हैं जिन्हे आपके मेंटर नहीं होने की कमी खलेगी।

भारत के लिए 31 टेस्ट मैच खेल चुके जाफर ने कहा था कि टीम में मुस्लिम खिलाड़ियों को वरीयता देने के सी ए यू के सचिव महिम वर्मा के आरोपों से उन्हें काफी तकलीफ पहुंची है।

जाफर ने चयन में दखल और चयनकर्ताओं  तथा संघ के सचिव के पक्षपात पूर्ण रवैया को लेकर मंगलवार को इस्तीफा दे दिया था। पूर्व भारतीय क्रिकेटर डोड्डा गणेश ने लिखा विश्वास नहीं हो रहा यह आपके जैसी किसी के साथ हो सकता है क्रिकेट जगत आपको और आपकी ईमानदारी को जाना जाता है।

जाफर ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में बुधवार को कहा जो कम्युनल एंगल लगाया वह बहुत दुखद है उन्होंने आरोप लगाया है कि मैं इकबाल अब्दुल्ला का समर्थन करता हूं और उसे कप्तान बनाना चाहता था जो सरासर गलत है।

रणजी ट्रॉफी में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज जाफर ने इन आरोपों को खारिज किया है कि टीम के अभ्यास सत्र में वह मौलवियों को लेकर आए थे।

पूर्व क्रिकेटर जाफर ने कहा की बायो बबल में मौलवी आए और हमने नमाज पढ़ी मैं आपको बताना चाहता हूं कि मौलवी मौलाना जो भी देहरादून में शिविर के दौरान दो या तीन शुक्रवार को आए उन्हें मैंने नहीं बुलाया था।

जाफर ने कहा इकबाल अब्दुल्ला ने मेरी और मैनेजर की अनुमति जुमे की नमाज के लिए मांगी थी।
इस पूर्व भारतीय बल्लेबाज ने ट्वीट करके कहा कप्तानी के लिए जय विस्टा के नाम की सिफारिश की थी। इकबाल की नहीं लेकिन सी ए यू अधिकारीयों ने इकबाल को पसंद किया।
जाफर को जून 2020 में उत्तराखंड का कोच बनाया गया था उन्होने 1 साल का करार किया था। उत्तराखंड की टीम सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में 5 में से एक ही मैच जीत सकी।

Share and Enjoy !

Shares

Dainik Dirashya

The reports are Dainik Dirashya Bulandshahr Uttar Pradesh

Read Previous

मोटापे से छुटकारा कैसे पाएं ,मोटापा से है परेशान तो खाने से हटाए तुरंत ये व्यंजन

Read Next

एम आई से लेकर रियल मी तक₹13999 तक कीमत में मिल रहे हैं यह धांसू स्मार्ट टीवी मिलेगी एचडी क्वालिटी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

   
Shares