• About Us Dainik DIRASHYA
  • Contact Us
  • Privacy Policy
  • Terms And Conditions/Dainik dirashya
  • October 25, 2021
  1. Home
  2. काव्य कुंज

Category: काव्य कुंज

हिंदी दिवस पर विशेष लेख: शहनाज़ ख़ान

हिन्दी दिवस पर विशेष लेख जैसा कि सभी जानते हैं 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। क्योंकि 14 सितंबर सन 1949 को हिंदी को राजभाषा घोषित किया गया। लेकिन यह…

Personal Blog
मेरे आदर्श , मेरे शिक्षक -शिक्षकदिवस विशेष

मेरे आदर्श , मेरे शिक्षक -शिक्षकदिवस विशेष

मेरे आदर्श शिक्षक, शिक्षक दिवस पर विशेष लेख मैं उनके लिए क्या लिखूं ,जिन्होंने मुझे लिखना सिखाया। मैं उनके लिए क्या क्या कहूं , जिन्होंने मुझे हर शब्द का अर्थ बताया है जीवन का महत्व…

काव्य कुंज
इंसाफ के लिए तरसती “गुड़िया” , अपाहिज बना शासन और प्रशासन

इंसाफ के लिए तरसती “गुड़िया” , अपाहिज बना शासन और प्रशासन

हमारे देश में बढ़ते क्राइम रूकने का नाम ही नहीं ले रहा है। निर्भया , प्रियंका , गुड़िया न जाने कितनी बेटियों के साथ दरिंदगी होती है। लेकिन अफसोस होता है कि जिस देश में…

Long Title Post
ज़िन्दगी जीने के तरीके? ज़िन्दगी को सफलता की ओर कैसे बढ़ाएं? ज़िन्दगी में सफलता कैसे हासिल करें।एक सफल जिन्दगी कैसे जिएं।

ज़िन्दगी जीने के तरीके? ज़िन्दगी को सफलता की ओर कैसे बढ़ाएं? ज़िन्दगी में सफलता कैसे हासिल करें।एक सफल जिन्दगी कैसे जिएं।

ज़िन्दगी जीने के तरीके? ज़िन्दगी को सफलता की ओर कैसे बढ़ाएं? ज़िन्दगी में सफलता कैसे हासिल करें।एक सफल जिन्दगी कैसे जिएं। ज़िन्दगी जीना इतना आसान नहीं है जितना लोग समझते हैं। इसे आसान बनाने के…

काव्य कुंज
शायद ही आए फिर

शायद ही आए फिर

शायद ही आए फिर कुछ पैदल चलने दो मुझे को कहीं क़दम वहक ना जाए फिर आज़ के पल पर हक़ मेरा जी लेने दो शायद ही कल आए फिर ये मेरा है ,वो पराया…

काव्य कुंज
          ।      कुछ रंग    ।

          ।   कुछ रंग ।

       ।   कुछ रंग । कुछ रंग आंगन में दे आए , कुछ रंग वहां से ले आए  हम थे ही इतने अलबेले , हंसते-गाते हम चले आए कुछ धूमिल थे कुछ…

Politics
शहीदी दिवस पर विशेष  भगतसिंह , सुखदेव और राजगुरु  का शहीदी दिवस

शहीदी दिवस पर विशेष  भगतसिंह , सुखदेव और राजगुरु  का शहीदी दिवस

शहीदी दिवस पर विशेष: भगतसिंह ,सुखदेव और राजगुरु  का शहीदी दिवस। आज भगतसिंह , सुखदेव और राजगुरु के अदम्य साहस और बलिदान का दिन है।आज ही के दिन 23 मार्च 1931 की शाम को 7…

काव्य कुंज
उड़ान

उड़ान

     उड़ान      बढ़ तु समन्दर पार कर   ,                                                घोर  लहरों…

Long Title Post
भारत के शेक्सपियर का दर्शन एक दृष्टि में।

भारत के शेक्सपियर का दर्शन एक दृष्टि में।

भारत के शेक्सपियर का दर्शन एक दृष्टि में।   हमारा भारत  विश्व गुरु कहा जाता है। क्योंकि  हमारे भारतीय इतिहास को अनेक प्रचण्ड , प्रतिभाशाली विद्वानों ने प्रकाशित किया है। वेदव्यास , भवभूति , बाणभट्ट,…

काव्य कुंज
तुमने लवों को अपने क्यूं बन्द रखा है।

तुमने लवों को अपने क्यूं बन्द रखा है।

तुमने लवों को अपने क्यूं बन्द रखा है। तुमने लबों को अपने क्यूँ बन्द रखा है। पाकीजा मोहब्बत पे ये दण्ड रखा है । चाहत हो तुम मेरी ये दुनियाँ को बता दो। क्या है…

मनुष्य में श्रेष्ठ एवं निम्न होने की पहचान कैसे करें।

“मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है” यूनान के प्रसिद्ध विचारक अरस्तू का यह कथन है। इसी कथन को यदि अंग्रेजी में अनुवाद किया जाए तो (Man is a social animal) मनुष्य एक सामाजिक पशु है। लेकिन…

काव्य कुंज
आधुनिक युग की मीरा

आधुनिक युग की मीरा

“पीड़ा की गायिका” या फिर “आधुनिक युग की मीरा” के नाम से जानी जाने वालीं “महादेवी वर्मा” जी हिन्दी साहित्य में अपना विशेष स्थान रखतीं हैं। इनकी रचनाओं के करुणा और भावुकता अभिन्न अंग हैं।…

news
धरती के वृक्ष

धरती के वृक्ष

कह रही गरम हवा मंथन से , कहाॅं गये हमारे साथी , क्या उन्हें कैद किया , या आयी परेशानी । एक चिड़िया पंख फड़फड़ा कर ,बैठ गई मेरे पास , पूछा कहाॅं गये वो…

काव्य कुंज
धरती के वृक्ष

धरती के वृक्ष

कह रही गरम हवा मंथन से , कहाॅं गये हमारे साथी । क्या उन्हें कैद किया , या आयी परेशानी । एक चिड़िया पंख फड़फड़ा कर ,बैठ गई मेरे पास। पूछा कहाॅं गये वो मतवाले…

काव्य कुंज
उम्मीदें

उम्मीदें

तुम मिल जाओ इस आशा में ,मन सावन की रिमझिम बारिश करता है , कितने    सावन    बीत   गये  , कितने  अभी  भी  बाकी  हैं । आसमान   से   कोई  तारा , टुटे   तो    बतला   देना…

काव्य कुंज
उन हवाओं के झोंको को कैसे भूलें

उन हवाओं के झोंको को कैसे भूलें

उन हवाओं के झोंको को कैसे भूलें , जो बना गये जीवन को बगिया , फूलों को उसमें उगा गये , फिर फूलों की तरह हमको  , महकना  हमको सीखा गये बनकर जो सतरंगी इन्द्रधनुष…

काव्य कुंज
मेरे जीवन का आधा हिस्सा तुम हो

मेरे जीवन का आधा हिस्सा तुम हो

मेरे    नवनीत    स्वप्न , मेरी  बंजर  भूमि  की फसल , ऐसे  मुझको  मिले  तुम हो , मेरे जीवन का आधा हिस्सा तुम हो । मेरे  आगे  बढ़ने  का  सफ़र , शुरू और  आखिरी  मंजिल ,…

काव्य कुंज
मौसम चले जाते हैं

मौसम चले जाते हैं

    मौसम चले जाते है फिजाएं छोड़कर । रखतीं हूं जिनसे  उम्मीदें चले जाते हैं तोड़कर ।  जिन्दगी रात की नींद होती है । हम खो देते हैं खुशियां हर रोज़ जानकर।  कहानी एक…

news
प्रसंग अधूरा रह गया

प्रसंग अधूरा रह गया

प्रसंग अधूरा रह गया।

काव्य कुंज
ऐसा चाहूं मैं भारत महान

ऐसा चाहूं मैं भारत महान

जहां ख्वाबों का भी समन्दर बहता हो , जहां प्रेम की नदियां करें कलरव  , तिरंगे को करती रहूं मैं सलाम , वात्सल्य धरती से हो दिन रात , जन्नत के गुण धरती पर हो…

Shares