• About Us Dainik DIRASHYA
  • Contact Us
  • Privacy Policy
  • Terms And Conditions/Dainik dirashya

सड़क दुघर्टनाओ से स्वयं का बचाव

 

आधुनिक विकास ने हमें बहुतायत मात्रा में आरामदायक वस्तुएं प्रदान की हैं। प्रत्येक क्षेत्र में मशीनीकरण हुआ है। इन्टरनेट हमारे जीवन का अहम हिस्सा बन चुका है, इसके बिना तो जैसे जीना संभव ही नही है। वहीं आज निरन्तर सड़को के विकास के कारण अनेक गांव आपस में जुड़े है।जो अपने आप में बहुत बड़ी बात है।एक जमाना था जब काका रामसिंह, चाचा चौधरी से मिलने के लिए कोसों दूर कच्चे, धूल भरे रास्ते पर पैदल चलकर मिलने जाते थे। लेकिन अब ये सब एक स्वप्न-सा पिछे रह गया। आज धूल के स्थान पर पक्के , चमकते हाईवे हैं और पैदल के स्थान पर आज सर्वसुलभ यातायात। अगर हमें इतनी सुविधाए उपलब्ध हैं और उनका उपयोग करने का अधिकार भी हैं हमारे कुछ कर्तव्य तो बनते हैं। माहत्मा गांधी ने भी कहा है-“अपना अधिकार लेने से पहले अपने कर्तव्यो का पालन करें तुम्हारे अधिकार तुम्हें स्वत प्राप्त हो जाएंगे।”यदि आप इनका उपयोग करते हैं तो हमारे भी कुछ उत्तरदायित्व हैं। जिन्हें हमें श्रद्धा के साथ जरूर निभाना चाहिए। जैसे सड़क नियमों का पालन करना, अपने साधन को मध्यम गति पर चलाना आदि आदि। इससे हम भी सुरक्षित रहेंगे और हमारे सामने वाला भी सुरक्षित रहेंगा । क्योंकि हम सब का जीवन अमूल्य है।

आइए कुछ उत्तरदायित्व निभाएं-

 1-सड़क नियमों का पालन सम्भव रूप से करें।2-सड़क दुर्घटनाओं का एक सबसे बड़ा कारण वाहनों की तेज रफ्तार होती है। इस लिए हमेशा अपना वाहन मध्यम गति से ही चलाएं।वाहन तेज चलना कोई बहादुरी की बात नहीं होती है बल्कि अपने आप की जिंदगी को मौत के अखाड़े में खड़ा करना के समान है।

3-अपना वाहन सदैव अपनी बाएं ओर चलाएं । ऐसा करने से दुर्घटना की सम्भावना नहीं होती।

4-कभी भी वाहन चलाते समय मोबाइल फोन या इयरफोन का प्रयोग न करें। क्योंकि वाहन चलाते समय जब हम इनका उपयोग करते हैं तो हमारा ध्यान वाहन चलाने पर कम इन पर अधिक होता है जो दुर्घटना घटित होने का कारण बन सकता है।

5-वाहन चलाते समय शराब या धुम्रपान का सेवन न करें।6-हमेशा वाहन चलाते समय हेलमेट अथवा सीटबेल्ट का प्रयोग करें।7-हमेशा संकेत चिन्हों पर आवश्यक रूप से ध्यान दें। विशेष रूप से लाल रंग की बत्ती के संकेत का पालन करें जो हमें रुकने अथवा इन्तजार करने का संकेत करती है।

8-हरी बत्ती जलने के बाद ही वाहन आगे बढ़ाए।

9-दाएं मुड़े अथवा बाएं मुड़े जैसे संकेत पाकर वाहन धीमी गति से ही मोड़ें।

10-नो पार्किंग जैसे संकेतों का पालन करें।11-दुर्घटना से देर भली, नज़र हटी दुर्घटना घटी , सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा, जैसे श्लोगनो के अर्थ को जीवन में उतारें। यदि आप और हम इन नियमों का पालन आदतन रूप से करेंगे तो हम और आप दुर्घटनाओं को रोकने में विशेष योगदान करेंगे।

नियमों को अपनाकर सड़क दुघर्टना से स्वयं को बचा सकेंगे।हम सब का जीवन सुरक्षित रहेंगा और हमारा भविष्य सुरक्षित रहेंगा।

Share and Enjoy !

0Shares
0

SHAHANAJ KHAN

शहनाज़ खान दैनिक दृश्य की सह-संस्थापक एवं सम्पादक है इन्हें लिखने का शौक है। अपनी कविताओं को भी जल्द ही आप तक पहुंचाने का प्रयास करुंगी। धन्यवाद

Read Previous

आत्महत्या एक आवेशित निर्णय

Read Next

तनाव रहित हो मन, स्वास्थ्य रहेगा तन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0