• About Us Dainik DIRASHYA
  • Contact Us
  • Privacy Policy
  • Terms And Conditions/Dainik dirashya
  • July 26, 2021
  1. Home
  2. हिन्दी साहित्य

Tag: हिन्दी साहित्य

Long Title Post
ज़िन्दगी जीने के तरीके? ज़िन्दगी को सफलता की ओर कैसे बढ़ाएं? ज़िन्दगी में सफलता कैसे हासिल करें।एक सफल जिन्दगी कैसे जिएं।

ज़िन्दगी जीने के तरीके? ज़िन्दगी को सफलता की ओर कैसे बढ़ाएं? ज़िन्दगी में सफलता कैसे हासिल करें।एक सफल जिन्दगी कैसे जिएं।

ज़िन्दगी जीने के तरीके? ज़िन्दगी को सफलता की ओर कैसे बढ़ाएं? ज़िन्दगी में सफलता कैसे हासिल करें।एक सफल जिन्दगी कैसे जिएं। ज़िन्दगी जीना इतना आसान नहीं है जितना लोग समझते हैं। इसे आसान बनाने के…

news
शिक्षा और संस्कारों के अभाव में जी रहा समाज। पढ़ें लिखे लोगों में है संस्कारों का अभाव।सोसल मीडिया पर ऐसे लोगों की लम्बी कतार लगी हुई है।

शिक्षा और संस्कारों के अभाव में जी रहा समाज। पढ़ें लिखे लोगों में है संस्कारों का अभाव।सोसल मीडिया पर ऐसे लोगों की लम्बी कतार लगी हुई है।

शिक्षा और संस्कारों के अभाव में जी रहा है समाज। शिक्षा और संस्कारों को एक साथ स्वीकार किया जाये तो समझिए समाज सौभाग्यशाली है।समाज में सुन्दरता सौंदर्य और स्नेह देखने को मिल सकता है परन्तु…

Health
अपने अधिकार की प्रतीक्षा करता पर्यावरण

अपने अधिकार की प्रतीक्षा करता पर्यावरण

जिस पर्यावरण में हम रहते हैं उस पर्यावरण ने हमें अमूल्य उपहारों से नवाजा है। खुबसूरत और खुशनुमा ज़मीं दी।हवा दी, जिसको हमें जीवित रखने का कर्तव्य सौंपा गया। पानी दिया जो हमें जीवित रहने…

काव्य कुंज
          ।      कुछ रंग    ।

          ।   कुछ रंग ।

       ।   कुछ रंग । कुछ रंग आंगन में दे आए , कुछ रंग वहां से ले आए  हम थे ही इतने अलबेले , हंसते-गाते हम चले आए कुछ धूमिल थे कुछ…

Politics
शहीदी दिवस पर विशेष  भगतसिंह , सुखदेव और राजगुरु  का शहीदी दिवस

शहीदी दिवस पर विशेष  भगतसिंह , सुखदेव और राजगुरु  का शहीदी दिवस

शहीदी दिवस पर विशेष: भगतसिंह ,सुखदेव और राजगुरु  का शहीदी दिवस। आज भगतसिंह , सुखदेव और राजगुरु के अदम्य साहस और बलिदान का दिन है।आज ही के दिन 23 मार्च 1931 की शाम को 7…

Long Title Post
    विश्व गौरैया दिवस : खतरे में है गौरैया

    विश्व गौरैया दिवस : खतरे में है गौरैया

विश्व गौरैया दिवस : खतरे में है गौरैया 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस मनाया जाता है। आज के दौर में गौरैया संकट में है। उनकी प्रजाति निरंतर विलुप्त होती जा रही है। उनकी प्रजाति…

Lifestyle
जैसी दृष्टि वेसी सृष्टि-आप जैसा सोचते हैं वैसा ही देखते हैं। कुछ करने की सोच ही आपको महान बनाती है।

जैसी दृष्टि वेसी सृष्टि-आप जैसा सोचते हैं वैसा ही देखते हैं। कुछ करने की सोच ही आपको महान बनाती है।

जैसी दृष्टि वेसी सृष्टि-आप जैसा सोचते हैं वैसा ही देखते हैं। कुछ करने की सोच ही आपको महान बनाती है। जैसा हम सोचते हैं वैसे ही हम बन जाते हैं। यदि हमें किसी व्यक्ति ,…

Long Title Post
किसके पास रूकती है लक्ष्मी और किससे रखती है ईर्ष्या।

किसके पास रूकती है लक्ष्मी और किससे रखती है ईर्ष्या।

किसके पास रूकती है लक्ष्मी और किससे रखती है ईर्ष्या। महाभारत , विष्णु पुराण और भागवत पुराण में समुद्र मंथन की एक कथा वर्णित है।जब असुरों और देवताओं में भयावह संग्राम हुआ । तीनों लोकों…

काव्य कुंज
उड़ान

उड़ान

     उड़ान      बढ़ तु समन्दर पार कर   ,                                                घोर  लहरों…

Personal Blog
साम्प्रदायिकता को फैलाने वाले राष्ट्रीय एकता की राह में सबसे बड़े बाधक

साम्प्रदायिकता को फैलाने वाले राष्ट्रीय एकता की राह में सबसे बड़े बाधक

साम्प्रदायिकता को फैलाने वाले राष्ट्रीय एकता की राह में सबसे बड़े बाधक। साम्प्रदायिकता का अर्थ— धर्म विशेष में श्रेष्ठता का संचार कर उसे अन्य मत- मतान्तरों की अपेक्षा अधिक अच्छा मानना ही साम्प्रदायिकता है अर्थात् …

Long Title Post
भारत के शेक्सपियर का दर्शन एक दृष्टि में।

भारत के शेक्सपियर का दर्शन एक दृष्टि में।

भारत के शेक्सपियर का दर्शन एक दृष्टि में।   हमारा भारत  विश्व गुरु कहा जाता है। क्योंकि  हमारे भारतीय इतिहास को अनेक प्रचण्ड , प्रतिभाशाली विद्वानों ने प्रकाशित किया है। वेदव्यास , भवभूति , बाणभट्ट,…

काव्य कुंज
तुमने लवों को अपने क्यूं बन्द रखा है।

तुमने लवों को अपने क्यूं बन्द रखा है।

तुमने लवों को अपने क्यूं बन्द रखा है। तुमने लबों को अपने क्यूँ बन्द रखा है। पाकीजा मोहब्बत पे ये दण्ड रखा है । चाहत हो तुम मेरी ये दुनियाँ को बता दो। क्या है…

गीत गजल
मोहब्बत की समां

मोहब्बत की समां

हम मोहब्बत की समा जलाते रहे ,वो हवाओं के झोके चलाते रहे। बुझा ना सके समां प्यार की, हम ऐसी समां जलाते रहे ऐसी बेरूखी क्यों हमारे लिए ,क्यूँ हमसे बो इतनें नाराज़ हैं। तुम…

मनुष्य में श्रेष्ठ एवं निम्न होने की पहचान कैसे करें।

“मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है” यूनान के प्रसिद्ध विचारक अरस्तू का यह कथन है। इसी कथन को यदि अंग्रेजी में अनुवाद किया जाए तो (Man is a social animal) मनुष्य एक सामाजिक पशु है। लेकिन…

काव्य कुंज
आधुनिक युग की मीरा

आधुनिक युग की मीरा

“पीड़ा की गायिका” या फिर “आधुनिक युग की मीरा” के नाम से जानी जाने वालीं “महादेवी वर्मा” जी हिन्दी साहित्य में अपना विशेष स्थान रखतीं हैं। इनकी रचनाओं के करुणा और भावुकता अभिन्न अंग हैं।…

news
धरती के वृक्ष

धरती के वृक्ष

कह रही गरम हवा मंथन से , कहाॅं गये हमारे साथी , क्या उन्हें कैद किया , या आयी परेशानी । एक चिड़िया पंख फड़फड़ा कर ,बैठ गई मेरे पास , पूछा कहाॅं गये वो…

काव्य कुंज
धरती के वृक्ष

धरती के वृक्ष

कह रही गरम हवा मंथन से , कहाॅं गये हमारे साथी । क्या उन्हें कैद किया , या आयी परेशानी । एक चिड़िया पंख फड़फड़ा कर ,बैठ गई मेरे पास। पूछा कहाॅं गये वो मतवाले…

काव्य कुंज
उम्मीदें

उम्मीदें

तुम मिल जाओ इस आशा में ,मन सावन की रिमझिम बारिश करता है , कितने    सावन    बीत   गये  , कितने  अभी  भी  बाकी  हैं । आसमान   से   कोई  तारा , टुटे   तो    बतला   देना…

काव्य कुंज
उन हवाओं के झोंको को कैसे भूलें

उन हवाओं के झोंको को कैसे भूलें

उन हवाओं के झोंको को कैसे भूलें , जो बना गये जीवन को बगिया , फूलों को उसमें उगा गये , फिर फूलों की तरह हमको  , महकना  हमको सीखा गये बनकर जो सतरंगी इन्द्रधनुष…

Shares